रविवार, जनवरी 18, 2009

भयंकर डायबिटीज है और पैरों में घाव हैं


My father in law is a patient of dibetis since 4 years. He has a weird problem; He gets ailment/injury on his legs.It pains.
After couple of weeks of medication it disappears.But the same ailment/skin injury reappears after a week.
I would be thankful to you if you could help him to cure this ailment permanantly.If possible plz contact me on my cellphone or reply to this email
address.
राजेश मुळे,पुणे
राजेश जी आपके ससुर जी से आयुषवेद परिवार के एक स्वयंसेवक की मुलाकात ट्रेन में हुई थी और उन्होंने ही मुझसे भी जिक्र करा था कि आज उन्होंने एक मधुमेह के मरीज को देखा जो कि पैरों में गहरे घाव से बुरी तरह से परेशान थे,आयुषवेद परिवार के स्वयंसेवक ने उनके पैरों को अपने हाथ में लेकर नजदीक से देखा है और उनकी पीड़ा को समझा है। बताया गया कि वे बाइस यूनिट इंसुलिन लेते हैं जो कि आपने अपने इस मेल में जिक्र नहीं करा है। आप उन्हें भरोसा दिलायें उससे पहले आप स्वयं आयुर्वेद पर विश्वास करें कि जो उपचार होगा वह स्थायी लाभ देगा किन्तु कुछ समय तक लगातार लेने पर ही परिणाम दिखेगा। आप उन्हें निम्न औषधियां दें-
१. सोमनाथ रस एक गोली + मधुमेह नाशिनी गुटिका एक गोली + स्वर्ण बंग एक रत्ती(१२५ मि.ग्रा.) की एक मात्रा बनाएं व कड़वी नीम के पत्तों के काढ़े के साथ दिन में तीन बार भोजन से पहले ही निगलवाएं व पंद्रह मिनट बाद भोजन कर सकते हैं।
२ . बसंत कुसुमाकर रस एक गोली + शिलाजित्वादि बटी एक गोली + मामज्जक घन बटी एक गोली की एक मात्रा बनाएं व भोजन के बाद एक कप जल में सात काली मिर्च,सात बेल के पत्ते व एक चुटकी सैंधव नमक(जो उपवास में खाया जाता है)पीस कर मिला लें व इसे मिश्रण से निगलवाएं।
३ . पैरों के जख्म पर स्थानिक लेप के लिये मेंहदी के पत्ते + बेल के पत्ते + कड़वी नीम के पत्ते + जामुन के पत्ते मिला कर पीस कर लेप बना कर दिन में चार-पांच बार लगाएं।
आप यकीन मानिये कि इस उपचार को यदि लगातार छह माह तक ले लिया जाए तो समस्या का स्थायी हल हो जाएगा और सहज लाभ तो आपको मात्र तीन-चार दिन में ही दिखाई देने लगेगा।

2 आप लोग बोले:

कुमार अभिषेक ''अर्णव'' ने कहा…

Nice,
kabjiyat ke liye ayushvedic dawa keya hain...


Abhishek

डा.रूपेश श्रीवास्तव(Dr.Rupesh Shrivastava) ने कहा…

शीघ्र ही आपकी समस्या का हल प्रकाशित करने का प्रयास करता हूं आजकल कब्जियत एक व्यापक बीमारी के रूप में देखने में आ रही है।
धन्यवाद