मंगलवार, मार्च 27, 2012

मुझे जीवन भर ब्लडप्रेशर की गोली न खानी पड़े


सर मैं एक टीचर हूं। मेरी उम्र तैंतालीस साल है। पिछले छह महीनों से ब्लड प्रेशर बढ़ा रहा करता है, नींद न आकर बल्कि अजीब सी नशे जैसी हालत रहती है और सिर भारी बना रहता है, चक्कर से आते रहते हैं, दिल की धड़कन जरा सी आहट या शोर पर बहुत ही तेज हो जाती है, हर बात पर चिड़चिड़ाहट होती है। कुल मिला कर आपसे ये निवेदन है कि आप कुछ ऐसा उपचार बताएं कि मुझे जीवन भर ब्लडप्रेशर की गोली न खानी पड़े और मैं जैसे अपने स्कूल के बच्चों में एक प्रिय टीचर थी वैसी दोबारा बन सकूं अब तो मुझे बच्चों का जरा सा भी शोर पसंद नहीं आता पहले मैं बाकी टीचरों को कहती थी कि जिन्हें पंछियों की चहचहाहट पसंद न हो, बच्चों का शोर पसंद न हो वे मेरी नजर में टीचर बनने लायक नहीं होते लेकिन अब तो मेरी ही हालत ऐसी हो रही है।

शमीम मोमिन
मुंबई

बहन जी आपकी बातों को गम्भीरता से समझ पा रहा हूँ। अक्सर हम अन्जाने में आहार-विहार-आचार-विचार की गड़बड़ी के चलते ऐसी परेशानियों में फँस जाते हैं और समझ नहीं पाते कि इनका मूल कारण क्या है। आपका पत्र बहुत लम्बा है इसलिये संक्षेप में ले रहा हूँ। आप निम्न उपचार लीजिये-
मुक्तापिष्टी + जहरमोहरा पिष्टी + अकीक पिष्टी + जटामाँसी + आँवला + अश्वगंधा प्रत्येक २० ग्राम + शुद्ध शिलाजीत ५० ग्राम + सर्पगंधा १०० ग्राम लीजिये व इन सबका अत्यंत सूक्ष्म चूर्ण बना लीजिये तथा सुबह शाम इस मिश्रण में से आधा छोटा चम्मच दिन में दो बार सारस्वतारिष्ट के दो चम्मच के साथ लीजिये।
ब्राह्मी बटी(बुद्धिवर्धक) एक गोली + स्मृतिसागर रस एक गोली दिन में दो बार पानी के साथ लीजिये।
आपकी समस्या दो दिन के भीतर ही कम होना शुरू हो जाएगी लेकिन आप इस औषधि को चालीस दिन तक लगातार लीजिये।
यदि कोई भी शंका या परेशानी हो तो आप सीधे मुझसे ई-मेल (aayushved@gmail.com) या मोबाइल नंबर09224497555 पर संपर्क करें।

0 आप लोग बोले: