सोमवार, दिसंबर 29, 2014

क्या आप निम्न सेक्स समस्याओं से परेशान हैं?

क्या आप निम्न सेक्स समस्याओं से परेशान हैं?
. लिंग का आकार आदि सामान्य होने के बावजूद भी सेक्स की इच्छा ही न होना जिस कारण संगिनी का कुंठित व्यवहार आपके सामने आ रहा है या अकारण पत्नी झिड़कियाँ दे रही है?
. सेक्स करते-करते बीच में ही उत्तेजना समाप्त होकर लिंग का बिना वीर्य निकले ही ढीला पड़ जाना और पत्नी का असंतुष्ट रह जाना?
. सेक्स क्रिया शुरू करते ही वीर्य निकल जाना और पत्नी के सामने शर्मिंदा होना पड़े?
. एक बार यदि सेक्स कर लिया तो कई-कई दिनों तक लिंग में सेक्स करने लायक उत्तेजना का ही न आना जिस कारण यदि पत्नी कमउम्र है तो अकारण काम का बहाना करना पड़ता है?
. वीर्य में शुक्राणुओं की कमी, वीर्य का पानी की तरह पतला होना?
. सेक्स के बाद भयंकर कमजोरी महसूस होना जैसे बरसों से बीमार हों?
. लिंग में सेक्स करने लायक कठोरता का न आना और इच्छा होने पर भी थोड़ा सा उत्तेजित होकर पिलपिला बना रहना?
. जवानी शुरू होते ही हस्तमैथुन करके वीर्य का सत्यानाश करा और लिंग को भी बीमार बना डाला है?
. सेक्स के दौरान दम फूलने लगना जैसे अस्थमा का दौरा पड़ गया हो?
ऐसी तमाम समस्याएं हैं जिनके कारण वैवाहिक जीवन का सत्यानाश होता रहता है और कई बार तो साथी के कदम बहक जाने से परिवार तक टूट जाते हैं। ऐसे में पति बाजारू दवाओं का सेवन करके या नीम-हकीमों के चक्कर में अपनी मेहनत का पैसा लुटाते रहते हैं लेकिन ऐसी दवाओं से स्थायी समाधान हाथ नहीं आकर बस कुछ देर के लाभ का छलावा महसूस होता है। ऐसे में चाहिये कि शरीर का भली प्रकार पोषण करके शक्ति प्रदान करने वाली औषधि आपके पास हों न कि क्षणिक उत्तेजना देकर आँखों, किडनी व मस्तिष्क यानि दिमाग का नाश करे । आयुषवेद ने गहन अध्ययन और अनुभव के बाद एक परिपूर्ण सेट डिजाइन करा है जो कि शरीर की समस्त आवश्यकताओं को पूरा कर न सिर्फ़ कमजोरी दूर करता है बल्कि अतिरिक्त काम-क्षमता( सेक्स पावर) भी प्रदान करता है। आयुषवेद परिवार चूंकि इन दवाओं पर लाखों रुपये दिखावा करने वाले विज्ञापनों में खर्च नहीं करता है इसलिये मूल्य में हमें बाजारू दवाओं से अत्यंत कम दाम पर औषधि तैयार करने का मौका मिलता है। आयुषवेद परिवार सिर्फ़ मरीजों की जरूरत भर की दवाएं बनाता है हम कोई व्यापारिक उत्पादन नहीं करते हैं इसलिये सिर्फ़ आवश्यकता पर ही दवाएं मंगवाएं न कि बेचने के लिये। हम सिर्फ़ उतना ही पैसा लेते हैं जितना कि दवा के निर्माण में तथा आपको स्पीड पोस्ट से भेजने में खर्च आता है।
इस सेट में निम्नलिखित औषधियाँ हैं ---
कैप्सूल : स्वर्ण वर्क, हीरा भस्म, माणिक्य पिष्टी, पन्ना पिष्टी प्रत्येक .१५ मिग्रा.
         नागभस्म, कज्जली, चाँदी वर्क, अभ्रक भस्म प्रत्येक १.३५ मिग्रा
         तालमखाना, सालम मिश्री, लौंग, केसर, सौंठ, जायफल, जावित्री, विजया बीज, कौंच     बीज, दालचीनी, तेजपत्र, छोटी इलायची, अकरकरा, सफ़ेद जीरा, खुरासानी अजवायन, पीपर, रूमी मस्तंगी, मालकांगनी, शुद्ध धत्तूर बीज, शुद्ध वत्सनाभ, सफ़ेद मूसली, शुद्ध शिलाजीत, लाल बहमन प्रत्येक ४ मिग्रा.
टैबलेट : त्रिबंग भस्म, मुक्ताशुक्ति भस्म, कज्जली, अभ्रक भस्म, लोह भस्म, ताम्र भस्म, चाँदी भस्म, स्वर्ण वर्क, शुद्ध हिंगुल, शुद्ध हरताल, वैक्रान्त भस्म, शुद्ध कुचला, शुद्ध वत्सनाभ, विजया बीज, शुद्ध शिलाजीत, तोदरी, अश्वगंधा, शतावर, काला जीरा, सफ़ेद जीरा, केसर, जायफल, जावित्री, विदारीकंद, छोटी इलायची, सफ़ेद मिर्च, अकरकरा, दालचीनी, पीपर, सफ़ेद मूसली, काली मूसली, खुरासानी अजवायन, लौंग, सौंठ, वंशलोचन, जुन्दबेदस्त, गोखरू, सालमपंजा, मालकांगनी, काले तिल, मुलहठी
बसंत कुसुमाकर रस(विशेष-स्वानुभूत) : स्वर्ण तथा मोती से युक्त ये औषधि भी टैबलेट के रूप में है लेकिन इस शास्त्रोक्त औषधि को आयुषवेद परिवार ने अपने गहन अनुभवों के आधार पर विशेष कामशक्ति वर्धक औषधियों से भावना देकर तैयार करा है ताकि इस अत्यंत शक्तिशाली औषधि का प्रभाव कई गुना बढ़ सके।
मलहम(ऑइन्टमेंट) : मालकांगनी के तेल तथा अश्वगंधा के साथ लिंग को लौहलठ, पुष्ट तथा बलिष्ठ बनाने के लिये अनुभूत औषधियों के मेल से बना यह मलहम लिंग पर लगाने के लिये है।
इन चारों औषधियों के बने सेट को कुछ समय तक सेवन से स्थायी प्रभाव मिलता है। इसके प्रभाव से आप पिछली गलतियों को सुधार सकते हैं और नए जीवन की सफलता से शुरूआत कर सकते हैं।

0 आप लोग बोले: