शुक्रवार, मार्च 16, 2012

दो साल से जोड़ों में दर्द की शिकायत है


सर, मेरी माता जी की उम्र ४७ साल है और उन्हें दो साल से जोड़ों में दर्द की शिकायत है। अक्सर उनके घुटनों और कुहनी के जोड़ों में दर्द के साथ सूजन भी दिखती है। कई बार वो बताती हैं कि उन्हें पूरे शरीर में नसों में चुभता हुआ सा दर्द हो रहा है। कई डाक्टरों को दिखाया है लेकिन उन्होंने पेनकिलर ही दिये हैं। पेनकिलर खा-खाकर माता जी का पेट भी खराब रहने लगा है। सारी रिपोर्ट्स आपको मेल कर रहा हूँ कोई स्थायी उपचार बताइये।
जयवंत पगारे
जयवंत जी, आपकी माताजी की आपने जो रिपोर्ट भेजी हैं उनसे आयुर्वेद में बीमारी का निदान करने में कोई सहायता सामान्यतः नहीं मिल पाती है। कई बार रक्त परीक्षण में जब "कम्प्लीट हेमोग्राम" निकलवाया जाए तो वात की विकृति का अनुभव करा जा सकता है। आप माताजी को निम्न उपचार नब्बे दिनों तक दें और उसके बाद मुझे मेरे ई-मेल (aayushved@gmail.com) या मोबाइल नं. 09224359159पर सूचित करिये।
आप मुझे अपनी समस्यायें what`s app के मेरे नम्बर 09833953289 पर भी भेज सकते हैं 
१) महावातविध्वंसन रस एक गो्ली + योगराज गुग्गुल एक गोली + शुद्ध कुचला चूर्ण एक रत्ती + आमवातेश्वर रस एक गोली + विषमुष्टिका बटी एक गोली की एक खुराक बनाइये और इसे सुबह शाम नाश्ते व भोजन के बाद महारास्नादि काढ़े के दो चम्मच के साथ दीजिये ।
२) घुटनों पर मालिश के लिये तेल बना लीजिये जो कि इस विधि से तैयार करिये-
धतूरे के चार पत्ते + कुचला चूर्ण पाँच ग्राम + अश्वगंधा चूर्ण पाँच ग्राम + रास्ना चूर्ण पाँच ग्राम लेकर २०० मिली.तिल का तेल + २०० मिली.पानी मिला कर धीमी आँच पर आग पर तब तक पकाइये जब तक सारा पानी भाप बन कर उड़ न जाए और तेल में पत्ते, चूर्ण पक न जाएं।
३) विषमुष्टिकावलेह एक छोटा चम्मच रात्रि भोजन के आधे घंटे बाद गर्म मीठे दूध के साथ दीजिये । सादा दूध भी बिना शक्कर मिलाए दे सकते हैं।

0 आप लोग बोले: